फाइनल वर्ष की परीक्षाएं कराने का फैसला छात्रों के भविष्य का ध्यान रखते हुए लिया गया: शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने फाइनल ईयर की परीक्षाओं को लेकर जानकारी दी है, उन्होंने सोमवार को कहा कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने अंतिम वर्ष की परीक्षाएं (Final Year Exams) आयोजित करने का फैसला लिया है जिससे की छात्रों के आगामी भविष्य पर किसी भी प्रकार का कोई खतरा नहीं आये।

यूजीसी (UGC) ने फाइनल ईयर की परीक्षाओं को कराने का फैसला सोच समझ के लिया है। यूजीसी ने विश्वविद्यालयों को ऑनलाइन अथवा  ऑफलाइन  परीक्षा कराने का विकल्प दिया है। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ (Union Minister of Education Ramesh Pokhriyal ‘Nishank’) ने कहा की नई शिक्षा नीति वैश्विक स्तर पर एक नेतृत्वकर्ता के रूप में भारत की स्थिति मजबूत करेगी.

UGC decision on Final Year Exam 2020

फाइनल ईयर की परीक्षा रद्द नहीं होगी: UGC

शिक्षा मंत्री निशंक ने अपना लक्ष्य बताते हुए कहा की “हमें  2035 तक 3.5 करोड़ और छात्रों का नामांकन करना है,  जिससे हमारे राष्ट्र निर्माण की बुनियाद के शोध को और भी बेहतर किया जा सके और  45000  डिग्री कॉलेजों को  चरणबद्ध तरीके से बेहतर  बनाया जायेगा।

हालांकि पूर्व में कई छात्रों द्वारा च्चतम न्यायालय में कई याचिकाएं द्वारा अंतिम वर्ष की परीक्षा रद्द करने की मांग की गई है.

News Source: NDTV India

Leave a Comment