श्री कृष्णा जन्माष्टमी क्यों, कैसे, कब मनाया जाता है- हिंदी में

श्री कृष्णा जन्माष्टमी क्यों मनाया जाता है- हिंदी में,  Shri Krishna Janmashtami Kyu Manaya Jata Hai, जानिए क्या है श्री कृष्णा जन्माष्टमी की कथा, जन्माष्टमी कैसे मनाई जाती है Shri Krishna Janmashtami 2020 से जुडी पूरी जानकारी हिंदी में, Janmashtami Dahi Handi Mahotsav 2020, Shri Krishna Janmashtami Date 2020

भारत एवं अन्य कई देशो में धूमधाम से मनाया जाने वाला एक उत्सव श्री कृष्णा जन्माष्टमी (Shri Krishna Janmashtami 2020)- आइये आज हम आपको अपनी इस पोस्ट के माध्यम से बताते है की श्री कृष्णा जन्माष्टमी क्यों मनाया जाता है एवं किस तरह से मनाया जाता है (Shri Krishna Janmashtami Kyu Manaya Jata Hai Hindi Me)।  साथ ही साथ आपको बताएंगे की किस बार जन्माष्टमी कब मनायी जाएगी (Janmashtami Kab Hai)। जन्माष्टमी से जुडी अधिक से अधिक जानकारी हम अपनी पोस्ट के माध्यम से आपके साथ शेयर करने का प्रयास करेंगे ।  तो पोस्ट को पूरा पढ़िए और प्रसन्न चित्त से जोर से बोलिये- नन्द के घर आनंद भयो जय कन्हैया लाल की  Nand ke Ghar Anand Bhayo Jai Kanhaiya Lal Ki

जन्माष्टमी क्यों मनाया जाता है (Janmashtami Kyu Manaya Jata Hai)

हिन्दुओ का एक प्रमुख त्यौहार श्री कृष्णा जन्माष्टमी भगवान श्री कृष्णा के जन्म उत्सव (Shri Krishna Jamotsav Janmashtami 2020) के रूप में मनाया जाता है।  जन जन के आराध्य बालगोपाल श्री कृष्णा रात्रि 12 बजे जन्म लेते है और उनके जन्म का उत्सव सभी लोग हर्षोल्लास के साथ घरो एवं मंदिरो में मानते है। पूरा दिन लोग रात्रि में भगवान के जन्म का इंतजार करते है।  हिन्दू धर्म के अनुसार भगवान विष्णु के आठवे अवतार श्री कृष्णा मथुरा में द्रौपदी जी एवं वासुदेव जी पुत्र रूप में के रात्रि 12 बजे जन्म लेते है।  भगवान का यह अवतार, द्वापर में मथुरा में राजा कंस के बढ़ रहे अत्याचारों से राज्य को मुक्ति दिलाने एवं विश्व को गीत एवं प्रेम का ज्ञान देने के लिए हुआ।

Shri Krishna Janmashtami Kyu Kaise Manaya Jata Hai

श्री कृष्णा जन्माष्टमी कैसे मनाई जाती है (Krishna Janmashtami Kaise Manayi Jati Hai)

जन्माष्टमी के दिन प्रातः काल से ही मंदिरो में चहल पहल एवं विशेष सजावट देखी जा सकती है। लोग अपने प्रिय बाल गोपाल लड्डू गोपाल स्वरुप के आने का इंतजार में इस दिन व्रत उपवास रखते है।  सम्पूर्ण देश इस दिन भक्ति के रंग में सरोबार दीखता है । श्री कृष्णा जन्माष्टमी (Shri Krishna Janmashtami 2020) का उत्सव मुख्य रूप से मथुरा जिले में मनाया जाता है जो की श्री कृष्णा की जन्मभूमि भी है।

श्री कृष्णा जन्माष्टमी लेटेस्ट स्टेटस Download

 श्री कृष्णा जन्माष्टमी 2020 के लिए बेहतरीन विश मैसेज एंड कोट्स 

श्री कृष्णा जन्माष्टमी से जुडी कहानी (Shri Krishna Janmashtami Ki Katha)

भगवान नारायण के आठवे अवतार श्री कृष्णा मथुरा को कंस के अत्याचारों से मुक्ति दिलाने, प्रेम का स्वरुप बतलाने एवं विश्व को गीता का ज्ञान प्रदान करने के लिए धरती पर अवतरित हुए।  भगवान के अवतरण से जुडी हुई कहानी बेहद ही रुचिकर है।  आइये हम आपको Janmashtami Ki Kahani कहानी के बारे में विस्तार से बताते है।

kashish trading company – Buy Lord Krishna ji Teddy Bear Blue Decorated in 26 cm

 

बात द्वापर युग की है जब मथुरा राज्य में क्रूर कंस के अत्याचारों से सभी मथुरावासी परेशान थे।  ऐसे में भगवान श्री कृष्णा ने कारागार में बंद माता देवकी एवं वासुदेव जी के आठवे पुत्र के रूप में जन्म लिया।  यूँ तो कंस रिश्ते में श्री कृष्ण के मां थे परन्तु देवकी एवं वासुदेव के विवाह के समय हुई आकाशवाणी से कंस को ज्ञात हुआ की देवकी का 8वा पुत्र कंस का वध करेगा। इसके चलते उसने निश्चय किया की वह देवकी के समस्त पुत्रो का जन्म लेते ही वध कर देगा । भाद्रपद माह के कृष्णा पक्ष के 8वे दिन रोहिणी नक्षत्र में ठीक 12 बजे जब भगवान श्री कृष्णा ने माता देवकी के आठवे पुत्र के रूप में जन्म लिया तो आकाश में घनघोर अँधेरा छा गया और तेज वर्षा होने लगी ।

Happy Holi 2020 Wishes

Happy Valentine’s Day 2020 Wishes

कारागार में बंद वासुदेव जी की भगवान की योग माया के प्रभाव से बेड़ियाँ खुल गयी जेल के ताले टूट गए ।  वासुदेव जी अपने पुत्र श्री कृष्णा के ले कर यमुना जी पार गोकुल में बाबा नन्द एवं यशोदा मैय्या के घर छोड़ आते है । गोकुल में भगवान के जन्मोत्सव को बड़ी धूमधाम से मनाया गया बालगोपाल श्री कृष्णा का लालन पालन किशोर अवस्था तक बाबा नन्द एवं मैय्या यशोदा द्वारा ब्रज में ही किया गया।  यही भगवान ने अनेक बाल लीलाये की एवं साथ ही कंस के द्वारा भेजे कई राक्षसों का वध करके उद्धार किया । बाद में भगवान ने कंस को भी मार कर उसका उद्धार करते हुए मथुरा को उसके अत्याचारों से मुक्त किया।    तो ये थी श्री कृष्णा जन्माष्टमी मनाये जाने की कथा जिसके बारे में हमने आपको संक्षेप में बताने का प्रयास किया (Shri Krishna Janmashtami Katha 2020)|

Janmashtami Kyu Manaya Jata Hai 2020

जन्माष्टमी दही हांडी महोत्सव (Janmashtami Dahi Handi Mahotsav Kaise Manaya Jata Hai)

बाल्यावस्था से ही बालगोपाल लड्डू गोपाल प्यारे श्री कृष्णा को माखन, दूध दही अतिप्रिय रहे है।  वे गोपियों की मटकी से माखन चुराकर कहते थे इसलिए उन्हें प्रेम से माखन चोर भी कहा जाता है । भगवान की लीला का चित्रण आज भी बहुत जगह दही हांड़ी महोत्सव के रूप में किया जाता है।  दही हांड़ी महोत्सव महाराष्ट्र (Dahi Handi Mahotsav Maharashtra)  में काफी प्रसिद्ध है |

इस बार श्री कृष्णा जन्माष्टमी कब मनाई जाएगी (Shri Krishna Janmasthami 2020 Kis Din Hai)

हिन्दू पंचांग के अनुसार भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष के 8वे दिन प्रतिवर्ष जन्माष्टमी का उत्सव मनाया जाता है।  इस वर्ष श्री कृष्ण जन्माष्टमी (Shri Krishna Janmashtami 2020 Date) 12 August 2020 बुधवार के दिन मनाया जाने वाला है । आप भी इस दिन अपने प्यारे बालगोपाल श्री कृष्णा के जमनोत्सव को धूमधाम से मनाये ।  प्रेम से बोलो नन्द के घर आनंद भयो जय कन्हैया लाल की  (Nand ke Ghar Anand Bhayo Jai Kanhaiya Lal Ki)

अगर आपको श्री कृष्णा जन्माष्टमी (Shri Krishna Janmashtami Kyu Kaise Manaya Jata Hai) से जुडी यह जानकारी अच्छी लगी तो इसे facebook Whastapp आदि के जरिये अपने मित्र एवं अन्य जानकारी के साथ भी शेयर कीजिये|

Leave a Comment